समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

8/28/2007

कोई तो जवाब दे आदमी

अपने मुख से तीव्र आवाज में
शब्दों को बाहर व्यक्त करते हुए
अपने कानों से शोर सुनने का आदी

कर रहा है कोलाहल के बीच
शाति की तलाश करता हुआ आदमी

हर क्षण अपने मन के सपने को साकार
होते देखने की इच्छा लिए
सारी दुनिया की दौलत अपने घर में
ही भरने का अरमान सजाये
ऊपर हाथ उठाकर आकाश की तरफ
सुख के लिए प्रार्थना करता आदमी

चारों और विष फैलाता
अपने लिए अमृत ढूँढता आदमी
अपने अक्ल पर पर्दा डालकर
दूसरे की सोच को सच मानता
कैसे संभव है जो पेड बोया ही नहीं
उसके फल मिल जाएँ इस धरती पर
कोई तो जवाब दे इस बात का आदमी

2 टिप्‍पणियां:

Basant Arya ने कहा…

जबाब तो आप ही बताईए. हमे आपसे ही उम्मीद है.

mamta ने कहा…

सोच बदलने की जरुरत है।

लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर