समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

12/21/2016

विमुद्रीकरण के सामाजिक तथा मानसिक परिणामों की प्रतीक्षा तो रहेगी-हिन्दी लेख (DeMonetisation for social and mental Efect for society-HindiArticle)

                           लगता नहीं है कि अनेक लोगों को विमुद्रीकरण ा अर्थ मालुम है। आधुनिक समय में राजकीय मुद्रा उसके स्वरूप का प्रतीक होती है। विमुद्रीकरण का अर्थ है एक राष्ट्र का ढहकर फिर पुननिर्माण की तरफ अग्रसर होना। आज हम समाज में जो उथलपुथल देख रहे हैं वह एक स्वाभाविक रूप है। अनेक लोग अन्मयस्क भाव से इसे देख रहे हैं।
             हमने अनेक लोगों से बात की तो सभी स्वयं को तो अप्रभावित बताते हैं पर गरीबों, किसानों, मजदूरों तथा कमजोर वर्गों की परेशानी का जिक्र करते हैं।  हमें आश्चर्य हुआ कि सामान्य लोग भी निम्न वर्ग की चिंता करते हैं-कहना चाहिये कि वह विमुद्रीकरण का विरोध करने के लिये नेताओं की तरह ही अपना हथियार प्रयोग कर रहे हैं। एक बात तो यह वह छिपाते हैं जो हम पढ़ लेते हैं वह यह कि सब कुछ पहले जैसा नहीं रहने वाला।  अनेक लोगों ने धन शक्ति के बल पर अपना आभामंडल प्रकाशित कर रखा था। विमुद्रहकरण से मुद्रा की कमी ने एक अध्यात्मिक दर्शन को जन्म दिया कि ‘जो मनुष्य इतराते हैं उन्हें पता होना चाहिये कि उनके कथित सम्मान और प्रतिष्ठा की वजह मुद्रा है।’
               यही दर्शन राजसी पुरुषों के लिये चिंता का विषय है।  उन्हें लग रहा है कि उनकी औकात या ताकत आम आदमी ने देखी है। मुद्रा के बिना कथित प्रभावशाली लोग क्या हैं? यह कमजोर लोगों ने देख लिया। विमुद्रीकरण के तत्काल बाद हमारी प्रतिक्रिया यही थी कि हम देश में सामाजिक तथा मानसिक बदलाव की उम्मीद कर रहे हैं।
              अब हम अनेक ऐसे लोगों को भी देख रहे हैं जो नोटबंदी को लेकर निराश हो रहे हैं जबकि पहले खुश थे।  दरअसल शिखर पर बैठे इन लोगों को यह लग रहा है कि उनके इर्दगिर्द जो सामान्य लोगों का जमावड़ा था वह शायद अब उस तरह न रहे। अगर रहे तो उस तरह का सम्मान न दे जैसा देता था। लोग कह रहे थे कि सरकार के पास काली मुद्रा भी सफेद होकर पहुंच गयी है। यह बात सही हो पर यह भी देखना चाहिये कि सरकार नयी मुद्रा नियंत्रण के साथ जारी कर रही है। यह नियंत्रण अपेक्षित था। कहने वाले कहते हैं कि सरकार तथा आरबीआई रोज नये नियम बना रही है पर यह भूल रहे हैं कि विमुद्रीकरण का निर्णय एक शब्द था जबकि आगे का विस्तार राज्यप्रबंध से जुड़ा है जो नयी नयी स्थितियों के अनुसार नियम बना रहा है।  विमुद्रीकरण एक युद्ध का शंखनाद था। युद्ध में समय के अनुसार रणनीति और योद्धा बदले जाते हैं। अतः इस तरह का नये निर्णय या उनमें बदलाव रणनीति के अनुसार करने ही हैं।
हम देख रहे हैं कि लोगों में जो धन का मद था वह अब उतार पर है।  अब यह कहने का कोई साहस नहीं कर रहा कि वह धनवान है अतः बेपरवाह है। सरकार भी जिस तरह वापस आयी मुद्रा जितनी पुनः जारी करने की मनस्थिति में नहीं दिखती।  खेल तो यही से शुरु हुआ है। जिन लोगों को कोई परिणाम नहीं दिख रहा दरअसल वह अपनी वर्तमान स्थिति को लेकर चिंतित है चाहे वह बड़े पद, प्रतिष्ठिा कि शिखर तथा अधिक पैसे का सहयोग उनके पास है। 


12/19/2016

मुद्रा की राशनिंग रहते ही कालेधन वालों नज़र रखी जा सकती है-हिन्दलेख (Cotrol on currency And Black Money-Hindi Article


मुद्रामंदी जब लागू हुई तभी हमने कहा था कि इसके परिणाम भविष्य में ही दिखाई देंगे। हम तमाम घटनायें देख रहे हैं और ऐसा लग रहा है कि समाचारों के रूप में कोई नोटबंदी या मुद्राबंदी के शीर्षक से कोई फिल्म चल रही है। कोई भक्त नहीं कह पायेगा न लिख पायेगा कि जब तक मुद्रा पर अघोषित राशनिंग रहेगी तब तक मदंाध कालाधन वाले पकड़े जायेंगे।  हम तो स्वतंत्र विचाराधारा वाले हैं सो अपनी सोच के अनुसार विश्लेषण करते रहते हैं। जब तक मुद्रा पर राशनिंग रहेगी तब तक कालाधन वालों पर सहज नज़र रहेगी।  यह मदांध धन खर्च किये बिना मान नहीं सकते क्योंकि उनके लिये यह भाग्य की ऐसी कृपा है जिसे दिखाना जरूरी है। 
एक घटना लोगों को याद होगी। अभी गुजरात के सूरत में एक चाय भजियेवाला पकड़ा गया है।  दरअसल गुजरात में एक कार्यक्रम हुआ था जिसमें दो दो हजार के नोट उड़ाये गये। यह सभी टीवी चैनलों पर दिखाया गया था।  मगर देश के खुफिया सूत्रों ने ढूंढ निकाला।  वह करोड़पति चाय भजिये वाले का लड़का था।  यकीनन पहले लड़के के बारे में जानकारी ली गयी होगी फिर भजियेवाले का इतिहास ढूंढा गया होगा।  इस भजियेवाले ने भ्रष्टाचारियों से दो दो हजार के नोट थोक में ले लिये थे।  उसका लड़का एक कार्यक्रम में वही लेकर पहुंचा होगा और जब यह समाचार टीवी के रूप में आया तो उसके कुछ समय बाद बाप की भी पकड़ हो गयी।  हम पहले भी कह चुके हैं कि समस्या हमें आर्थिक नहीं वरन् सामाजिक ज्यादा लगती है। इन धन में मदांध लोगों ने समाज में गरीब तथा मध्यम वर्ग के लोगों में अपने दिखावे से जो कुंठा पैदा कर रखी थी वही हमें चिढ़ाती थी। हमारा तो यह मानना है कि मुद्रा पर यह राशनिंग कम से कम छह महीने अभी जारी रहना चाहिये। इन धन में मदांध लोगों के पास सब्र नहीं होता और खर्च करने पर यह पकड़ ही जायेंगे।

11/16/2016

तन्हाई में सबसे बड़ा साथी अपना ही हमसाया है--हिन्दी व्यंग्य कविताऐ (Sathi Apna Saya hai-HindiPoem;s)

 पीछे पेड़ की परछाई सिर पर धूप की छाया है।
तन्हाई में सबसे बड़ा साथी अपना ही हमसाया है।
सहारे की तलाश में कई घरों के दर पर दी दस्तक
ढूंढा तो अपने आंगन में खुशियों का खजाना पाया है।
------
--
बर्फ पिघलानी थी
आग जलाई
अपने हाथ भी जला लिये।

सोना ढूंढ रहे थे
नहीं मिला तो
पीतल के बर्तन ही गला दिये।

कहें दीपकबापू नाचना
हमें आता नहीं था
आंगन टेढ़ा दिखे
इसलिये अंधेरे चला दिये।
--
सर्वशक्तिमान से
मत करना कोई याचना
जिदंगी का सब सामान
उसने संसार में भर दिया है।

हाथ पांव और बुद्धि का
देकर भंडार उसने किया कृतार्थ
कोई नहीं कर भी लिया है।
-----
सर्वशक्तिमान से
शक्ति की याचना क्यों करते हैं।
पांव दिये चलने को
साष्टांग होते उसके सामने
हाथ दिये काम करने को
फैलते उसके आगे
फिर इंसान होने का दंभ क्यों भरते हैं।
-

लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर