समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

5/25/2007

मय का मायाजाल

NARAD:Hindi Blog Aggregator
जब पीते थे तो कोई
बुलाता नहीं था
मांगते थे तो कोई
पिलाता नहीं था
जब छोड़ दीं तो
सब बुलाते हैं
जैसे मयखाना खोल लिया हो
बोतल खोल देते हैं
जैसे अमृत घोल दिया हो
वाह री मय तेरी माया
आज हम आगे तू पीछे
कभी आगे तू और मैं पीछे था
----------------------
कुछ पल का नशा
फिर ढ़ेर सारी हताशा
मय अगर अमृत जैसी होती
तो सारा जहां नशे में डूबा होता
ऊपर वाला कितना भी ताकत दिखाता
पर उसका जोर नहीं होता
जब मय नहीं है अमृत जैसी
तब यह हाल है कि
जो पीता है
उस पर चढ़ कर
इतना ऊपर उठा देती है
ऊपर वाला भुला देती है
अगर अमृत होती तो वह
खुद ऊपर वाला होता
------------------

2 टिप्‍पणियां:

परमजीत बाली ने कहा…

एक अच्छी शिक्षाप्रद रचना है।

ऊपर वाला कितना भी ताकत दिखाता
पर उसका जोर नहीं होता
जब मय नहीं है अमृत जैसी
तब यह हाल है कि
जो पीता है
उस पर चढ़ कर
इतना ऊपर उठा देती है
ऊपर वाला भुला देती है

अभिनव ने कहा…

सुंदर रचना।

लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर