समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

5/24/2007

अल्फाजों का समन्दर उफनता आने दो

NARAD:Hindi Blog Aggregator
तुम रास्ते से हट जाओ
अपने ज़ज्बातों को बहकर आने दो
अल्फाजों का समंदर है अन्दर
उसे उफनते आने दो
कहने की कोशिश ना करो
शेरों को बाहर खुद आने दो
जो कोशिश की तुमने उन्हें
भाषा की जंजीरों से बाँधने की
वह पालतू हो जायेंगे
अपने मायने खो जायेंगे
तुम उन्हें आज़ाद बाहर आने दो
शब्दों में सौन्दर्य नहीं ढूंढ़ना
मतलब की खोज न करना
अल्फाजों को ज़ज्बातों से
खुद-बखुद जुड़ जाने दो
कविता और शेर लिखे नहीं जाते
खुद चले आते हैं
तुम रास्ता छोड़कर खडे हो जाओ
उन्हें बाहर आने दो
--------------------
कई बार सोचता हूँ कि
लिखना बंद कर दूं
अपने ज़ज्बातों से नज़रें फेर लूं
पर ऐसा नहीं कर पाता
गम हो या ख़ुशी
लिखने चला आता
फिर सोचता हूँ कि मैं खुद
कहॉ लिखता हूँ
यह तो अल्फाजों का समंदर है
जो ज़ज्बातों के तूफ़ान के साथ
बहकर बाहर आता
अब उन्हें रोकने की
कोशिश करना छोड़ दीं है
अपनी कविता के साथ इतना
रास्ता तय कर लिया
जो खुद नहीं कर पाता
मेरे शेर मन के पिंजरे से
जब भी बाहर आते
मैं खामोश रह जाता
-----------------

5 टिप्‍पणियां:

अभिनव ने कहा…

Namastey Deepakji, Please send your email address to my id, shukla_abhinav at yahoo.com.

परमजीत बाली ने कहा…

कविता इसी को कहते हैं।सुन्दर रचना है।

अनूप हुक्ल ने कहा…

हम हट गये। अच्छा है!

Udan Tashtari ने कहा…

बहुत अच्छे, बहाओ!! बढ़िया लिखा है.

Gaurav Pratap ने कहा…

दीपक जी
दिल को छूने वाली रचना थी.

लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर