समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

4/14/2012

गुनाह और जुबान-हिन्दी शायरी (gunah aur zubaan-hindi shayari or kavita)

अपने दिल के हाथ
हम क्यों इतना मजबूर हो जाते हैं
गुनाह हमने जो किये नहीं
उनका हिसाब देते हैं जमाने को
कसूरवारों के शोर के आगे
अपनी गर्दन क्यों झुकाते हैं।
कहें दीपक बापू
नकारा लोग
करते हैं अपनी कामयाबी का बयान
ऊंची आवाज में
हम क्यों उसमें बहक जाते हैं,
सच समझने की तमीज नहीं जमाने को
हम अपनी सफाई के बयान में
क्यों अपनी जुबां थकाये जाते हैं।
वि, लेखक एवं संपादक-दीपक भारतदीप, ग्वालियर
poet,writer and editor-Deepak Bharatdeep, Gwaliro
http://rajlekh-patrika.blogspot.com

यह आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप का चिंतन’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका

 5.दीपक बापू कहिन
6.हिन्दी पत्रिका 
७.ईपत्रिका 
८.जागरण पत्रिका 
९.हिन्दी सरिता पत्रिका

2 टिप्‍पणियां:

aryasamajmarriageinaryasamajmandir ने कहा…
इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.
Court Marriage, Arya Samaj Mandir ने कहा…

'This blog dignify the amount of my knowledge and beautify the premises of my area of interest.This blog really compelete my needed information.''Keep dispatching me further valuable blogs Court Marriage Delhi, Court Marriage, Love Marriage Delhi

लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर