समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

12/09/2010

ईमान का चेहरा-हिन्दी कविता (iman ka chehra-hindi kavita)

बहुत बार उजड़ा है चमन
माली के रहते,
लुट गया खज़ाना
पहरेदारों के रहते।
दूसरे इंसानों के दर्द पर क्या बयान करें
फुर्सत नहीं मिलती जिंदगी में
रोज आते ग़मों का तूफान सहते।
------------
जैसे जैसे पहाड़ पर वह चढ़ते जा रहे हैं,
जिदंगी के उनके लिये बदले नज़र आ रहे हैं।
वही लोग तंगहाली से होकर अमीरी के महल में पहुंचे
जो बेईमानी को ईमान का चेहरा बता रहे हैं।
--------------

कवि,लेखक संपादक-दीपक भारतदीप,Gwalior
http://dpkraj.blogspot.com
http://dpkraj.wordpress.com

यह आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप का चिंतन’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग
3.दीपक भारतदीप की शब्दयोग-पत्रिका
4.दीपक भारतदीप की शब्दज्ञान पत्रिका5.दीपक बापू कहिन
6.हिन्दी पत्रिका 
७.ईपत्रिका 
८.जागरण पत्रिका 
९.हिन्दी सरिता पत्रिका 

1 टिप्पणी:

एस.एम.मासूम ने कहा…

जैसे जैसे पहाड़ पर वह चढ़ते जा रहे हैं,
जिदंगी के उनके लिये बदले नज़र आ रहे हैं।
वही लोग तंगहाली से होकर अमीरी के महल में पहुंचे
जो बेईमानी को ईमान का चेहरा बता रहे हैं।

bahut khoob

लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर