समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

8/04/2007

विचित्र है राम की माया

भाई हो भरत जैसा
आज भी यही कहा जाता है
क्योंकि फिर कोई भाई
इस धरती पर पैदा ही नहीं हुआ
जिसने बडे भाई की चरण पादुकाएं
उठाकर सिर-माथे लगाई हो
या जिसने डूबती नैया पार लगाई हो
अब तो भाई ही भाई की पीठ में
छुरा घोंपते नजर आता है

मित्र मिले सुग्रीव जैसा
यही सबके दिल में
ख़्याल आता है
क्योंकि फिर कोई मित्र
यहाँ बना ही नहीं
जिसने आफत में
मित्र को उबारा हो
जिसे अपना मित्र
प्राण से भी प्यारा हो
अब तो मित्र ही मित्र की
पीठ में छुरा घोंपता
नजर आता है
राम जैसा पुत्र हर नारी चाहे
पर दशरथ जैसा पिता
किसी को नहीं भाता है


विचित्र है राम की माया
सब जगह गूंजे जयघोष के शब्द
कई जगह होता है उनके नाम
पर भंडारा
सब पुकारें नाम बारंबार
पर अपने हृदय में
देखने की कोशिश
करता हुआ कोई
नजर नहीं आता है
------------

2 टिप्‍पणियां:

Divine India ने कहा…

सच कहते हो भाई… सब माया है तभी तो कलयुग है।

परमजीत बाली ने कहा…

बहुत सही लिखा है।

लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर