समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

2/16/2016

उलटपंथी बुद्धिमान योगमाता की शरण लें (Janwadi buddhiman Yogamata ke sharan len)

                                                           नियमित योग, अध्यात्मिक ज्ञान तथा लेखन साधक होने के कारण इस लेखक की बुद्धि शायद स्वाभाविक ढंग से काम करती है या फिर  अतिआत्मविश्वास से वह भ्रष्ट हो गयी है यह तो पता नहीं पर जिस तरह देश में घटनाक्रम चल रहा है उससे तो लगता है कि अनेक बुद्धिमानों की सोच नारों तक अब सिमटी गयी है या पहले से ही थी। पैंतालीस साल हो गये लिखते पढ़ते और चिंत्तन करते। समाज के शीर्ष पुरुषों इतनी वैचारिक संकीर्णता की अनुभूति नहीं हुई जो अब दिखने लगी है। योग साधक के रूप में लगता है कि जल, भोजन तथा वायु का प्रदूषण तथा सूर्य की अग्नि का तेज  जिस क्रम में बढ़ता गया है सामान्य लोगों की बुद्धि उससे दुष्प्रभावित हुई है जिसका निवारण योग साधना से ही हो सकता है। जब अपनी बुद्धि पर संदेह हो तो फिर योग साधना से उसे बचाये रखने का दावा तो नहीं कर सकते पर जिस तरह देश के बुद्धिमान टीवी चैनलों और समाचार पत्रों में देश विरोधी नारों पर बहस कर रहे हैं उसने जरूर हैरान कर दिया है।
बहरहाल हम बात कर रहे हैं कि जनवादी बुद्धिजीवियों की जो अपने प्रतिकूल विचाराधारा के विरोध करते करते इतने अंधे हो गये हैं कि उन्हें आतंकवाद और विरोध क अंतर ही समझ में नहीं आ रहा है। उन्हें हिन्दुत्व से घृणा है पर इसका आशय नहीं है कि किसी दूसरे धर्म की आड़ लेकर उस पर हमला करें। इसे सहज मानना गलत होगा। बीच में हमने सुना था कि चीन भारत को बत्तीस टुकड़ों में बांटने की योजना बना रहा है। तब यह मजाक लग रहा था पर जिस तरह देश में वातावरण बन रहा है उससे लग रहा है कि जनवादी अपनी तात्कालिक स्वार्थों के लिये उसके सहायक बन रहे हैं।  हालांकि हमें पता है कि जनवादियों की शक्ति ज्यादा नहीं है और राष्ट्रवादी उनसे निपटने में सक्षम हैं पर इससे देश की अर्थव्यवस्था प्रभावित होने का भय है जो देश में अंततः अनेक प्रकार के संकट पैदा करेगी।
हमें जनवादियों की योग्यता पर कभी संदेह नहीं रहा पर हिन्दुत्व की विचाराधारा का विरोध करने के लिये उन्हें कश्मीर या किसी अन्य धर्म की आड़ लेकर हमला नहीं करना चाहिये। राष्ट्रवादी जिन प्रतीकों से चिढ़ते हैं उनका उपयोग करने से पहले इन जनवादियों को सोचना चाहिये कि भारतीय समाज में इसकी उनके प्रतिकूल प्रतिक्रिया हो सकती है।  जनवादी अपनी दृष्टि से भारतीय समाज को चीथड़े चीथड़े हुआ देखते हैं पर यह उनका वहम है।  जिस तरह वह कर रहे हैं उससे तो यह लगता ही है कि जल, भोजन, वायु, अग्नि और आकाश तत्व के प्रदूषित होने का जो दुष्प्रभाव हुआ है उनसे उनकी बुद्धि कुंठित हो गयी है। वह भले ही भारतीय योग साधना से हिन्दुत्व के कारण घृणा करें पर सच यह है कि उन्हें उसकी शरण लेना चाहिये।  याद रखें कम से कम इस धरती पर दो योगी हिन्दू शीर्ष पुरुष तो रोज दिखते ही जो अकेले ही उनके दुष्प्रचार को समेट लेने की ताकत रखते हैं। 
-----------

लेखक एवं कवि-दीपक राज कुकरेजा ‘‘भारतदीप 
ग्वालियर मध्य प्रदेश

Writer and poet-Deepak Raj Kukreja "Bharatdeep"
Gwalior Madhyapradesh

वि, लेखक एवं संपादक-दीपक भारतदीप, ग्वालियर
poet,writer and editor-Deepak Bharatdeep, Gwaliro
http://rajlekh-patrika.blogspot.com

यह आलेख इस ब्लाग ‘दीपक भारतदीप का चिंतन’पर मूल रूप से लिखा गया है। इसके अन्य कहीं भी प्रकाशन की अनुमति नहीं है।
अन्य ब्लाग
1.दीपक भारतदीप की शब्द पत्रिका
2.अनंत शब्दयोग

 5.दीपक बापू कहिन
6.हिन्दी पत्रिका 
७.ईपत्रिका 
८.जागरण पत्रिका 

1 टिप्पणी:

Akshaya Gaurav ने कहा…

दीपक जी
हमने आपके विभिन्न ब्लागों का अध्ययन किया। जिसके बाद हमने पाया कि आपकी रचनाएं पठनीय और समाज को संदेश देने वाली है। जिसे देखते हुए हम आपको अपनी पत्रिका में लिखने के लिए आपको आमत्रित करते है।

भवदीय
प्रकाशक / संपादक
अक्षय गौरव पत्रिका
visit us : www.akshayagaurav.com

लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर