समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

10/12/2007

दिल के पास

दिल के पास हैं जो
उनकी शरीर से दूरी
का अहसास इतना नहीं सताता
जितना दिल के दूर
रहने वाले का पास होने पर डराता
राह पर चलते हुए कई हमसफर मिलते
पर सभी मन के मीत नही बनते
हर कोई अपनी मंजिल आते ही
अपना साथ छोड जाता
जो हमारे दिल को दे सुकून
उसे हम याद रखते
जिसे हम दे तसल्ली
वही हमें अपनी यादों का हिस्सा बनाता

3 टिप्‍पणियां:

Rachna Singh ने कहा…

दिल के पास हैं जो
उनकी शरीर से दूरी
का अहसास इतना नहीं सताता
आप की इन लाइनो को चुरा कर अप्ने ब्लोग पर सजाने का मन हुआ . बहुत सुन्दर

Sharma ,Amit ने कहा…

बहुत सुंदर !!!

parul k ने कहा…

अच्छी और सच्ची बात्, सुदंर पंक्तियां………

लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर