समस्त ब्लॉग/पत्रिका का संकलन यहाँ पढें-

पाठकों ने सतत अपनी टिप्पणियों में यह बात लिखी है कि आपके अनेक पत्रिका/ब्लॉग हैं, इसलिए आपका नया पाठ ढूँढने में कठिनाई होती है. उनकी परेशानी को दृष्टिगत रखते हुए इस लेखक द्वारा अपने समस्त ब्लॉग/पत्रिकाओं का एक निजी संग्रहक बनाया गया है हिंद केसरी पत्रिका. अत: नियमित पाठक चाहें तो इस ब्लॉग संग्रहक का पता नोट कर लें. यहाँ नए पाठ वाला ब्लॉग सबसे ऊपर दिखाई देगा. इसके अलावा समस्त ब्लॉग/पत्रिका यहाँ एक साथ दिखाई देंगी.
दीपक भारतदीप की हिंद केसरी पत्रिका

5/26/2007

अंतर्मन और अंतर्दृष्टि

NARAD:Hindi Blog Aggregator

जहाँ तक जायेगी

तुम्हारी दृष्टि वहीं तक देख पाओगे

वैसा ही दिखाई देगा

जैसा देखना चाहोगे
चक्षुओं का काम है दृष्टि डालना

पर दृष्टिकोण तो अन्तर्दृष्टि से

निर्धारित होता है

वह वैसा ही होता है

जैसे हमारा अंतर्मन में होता है

जहाँ तक और जैसा वह चलेगा
वहां तक वैसे ही चल पाओगे

प्रात:काल में करोगे किसी

समाचार पत्र का अवलोकन

तो अपराध और घोटालों को ही

धारण कर पाओगे

दिन भर उन्हें ही सामने पाओगे

योगासन, प्राणायाम और ध्यान में

अपना समय बिताओगे तो

दिन भर पवित्र विचार्रों के

साथ बिताओगे

अपने अंतर्मन में लाओ शुध्दता

तुम्हारी अन्तर्दृष्टि में आयेगी बहार

तब अपने चक्षुओं से इस रंग-रंगीली

दुनियां की रौनक देख पाओगे

-------------------------

1 टिप्पणी:

परमजीत बाली ने कहा…

सुन्दर रचना है।्यह पंक्तियां बहुत सुन्दर बन पड़ी हैं।

अपने अंतर्मन में लाओ शुध्दता

तुम्हारी अन्तर्दृष्टि में आयेगी बहार

तब अपने चक्षुओं से इस रंग-रंगीली

दुनियां की रौनक देख पाओगे

लोकप्रिय पत्रिकायें

हिंदी मित्र पत्रिका

यह ब्लाग/पत्रिका हिंदी मित्र पत्रिका अनेक ब्लाग का संकलक/संग्रहक है। जिन पाठकों को एक साथ अनेक विषयों पर पढ़ने की इच्छा है, वह यहां क्लिक करें। इसके अलावा जिन मित्रों को अपने ब्लाग यहां दिखाने हैं वह अपने ब्लाग यहां जोड़ सकते हैं। लेखक संपादक दीपक भारतदीप, ग्वालियर